स्वामी विवेकानंद कॅरियर मार्गदर्शन योजना

मध्यप्रदेश शासन

उच्च शिक्षा विभाग

मध्य प्रदेश शासन

स्वामी विवेकानंद कॅरियर मार्गदर्शन  योजना,

योजना का परिचयः-

            स्वामी विवेकानंद कॅरियर मार्गदर्शन  योजना प्रारंम्भ किये जानें का उद्देश्य प्रदेश  के सभी शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों, शासकीय महाविद्यालयों तथा तकनीकी शिक्षण संस्थानों में अध्ययनरत विद्यार्थियों को स्वयं का रोजगार एवं स्वरोजगार स्थापित करनें हेतु प्रशिक्षण एवं मार्गदर्शन प्रदान करना है । योजना का क्रियान्वयन किये जानें हेतु महाविद्यालय स्तर पर इकाईयां कार्य करती हैं जिन्हे प्रकोष्ठ के नाम से जाना जाता है । प्रत्येक शैक्षणिक सत्र में वर्ष भर आयोजित किये जाने वालें कार्यक्रमों के संचालन हेतु वार्षिक कॅरियर केलेण्डर का निर्माण/निर्धारण किया जाता है, एवं निर्धारित कैलेन्डर अनुसार रोजगारोन्मुखी प्रशिक्षण सत्र आयेाजित किये जाते हैं । योजना के तहत आयोजित होनें वाली गतिविधियों की मॉनीटरिंग जिला संभाग एवं राज्य स्तर के कार्यालयों कार्यरत अधिकारियों के द्वारा की जाती है एवं आवश्यकतानुसार सुझाव भी प्रापत / प्रदान किये जाते हैं। प्रदेश सरकार विद्यार्थियों के लिये शिक्षा के साथ-साथ रोजगार एवं स्वरोजगार प्रदान करनें एवं उन्हे रोजगार के विभिन्न आयामों से परिचय कराये जाने हेतु प्रयत्नशील है । जिससे विद्यार्थी अध्ययन-अध्यापन के साथ-साथ रोजगार, स्वरोजगार हेतु प्रशिक्षित हो सके ।

योजना का संचालनः-

             योजनान्तर्गत उच्च शिक्षा  विभाग अंन्तर्गत 12 पूर्णकालिक प्राध्यापक संभाग समन्वयक 52 जिला नोडल प्राध्यापक अंशकालिक तौर पर तथा महाविद्यालयों में 504 प्रशिक्षण एवं नियोजन अधिकारी (टी.पी.ओ.) कार्य संपादित कर रहे हैं। तथा उसकी पूरी जानकारी से राज्य समन्वय कार्यालय को अवगत कराया जाता है राज्य समन्वय कार्यालय द्वारा विभागीय वरिष्ठ अधिकारियों से अनुमति प्राप्त करनें के उपरान्त योजना की आवश्यक गतिविधियों के क्रियान्वयन हेतु बजट राशी उपलब्ध कराया जाता है।

Facebook
Twitter
LinkedIn
Youtube