स्वामी विवेकानंद कॅरियर मार्गदर्शन योजना

मध्यप्रदेश शासन

उच्च शिक्षा विभाग

मध्य प्रदेश शासन

कड़ी मेहनत से पूरा किया नाना-नानी का सपना

IEHE  और सरोजनी नायडू कन्या महाविद्यालय,भोपाल की छात्रा लिपी बनेगी आई.पी.एस

उच्च शिक्षा उत्कृष्टता संस्थान भोपाल की छात्रा रही, लिपी नगाइच ने देश की प्रतिष्ठित परीक्षा यू.पी.एस.सी. सफलता 2021 में 140 वीं रैंक प्राप्त की। वे फिलहाल शासकीय सरोजनी नायडू कन्या स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय, भोपाल से राजनीति विज्ञान में एम.ए.कर रही हैं। लिपी की इस उपलब्धि से उनके दोनों शिक्षण संस्थानों के साथ उनके शहर का भी नाम बढ़ाया है। 

लिपी को अपनी रैंक के आधार पर भारतीय पुलिस सेवा मिलने की उम्मीद है। लिपी कहती हैं कि वे अपनी सर्विस के माध्यम से पुलिस के पास लंबित मामलों का निपटारा एवं उन्हें शीघ्र न्याय दिलाने का प्रयास करेगीं। लिपी महिला सुरक्षा के मुद्दे को सबसे ऊपर मानती हैं। उनका कहना है कि हमें इस तरह की व्यवस्था विकसित करनी होगी कि अपराधी महिलाओं के प्रति अपराध करने से पहले दस बार सोचे।

 लिपी का जन्म नरसिंहपुर जिले की करेली तहसील के कोसमखेड़ा गांव में हुआ था। लिपि का अपने नाना-नानी से बहुत ही भावनात्मक जुड़ाव रहा है। उनके सपने को पूरा करने के लिए उन्होंने यू.पी.एस.सी. की तैयारी प्रारंभ की थी। जिसमें उन्हें अपने माता-पिता का पूरा सहयोग मिला। लिपी पहले लॉ की पढ़ाई करने की योजना बना रही थी। उनका ‘क्लेट’ में चयन भी हो गया था। लेकिन यू.पी.एस.सी. को अपना लक्ष्य बना चुकी लिपी ने फिर किसी ‘विधि शिक्षण संस्थान’ में प्रवेश नहीं लिया। उन्हें अपने दूसरे प्रयास में ही अपने संघर्ष को सफलता में बदल दिया। हालांकि वे अपनी रैंक से संतुष्ट नहीं है, अच्छी रैंक लाने के लिए दुबारा प्रयास करने का मन बना चुकी हैं।

ऐसे की तैयारी  :-                          

पिछले तीन वर्षों से वे इस परीक्षा की तैयारी कर रही थीं। वे प्रतिदिन 8 से 10 घंटे पढ़ाई करती थी। तैयारी के लिए उन्होंने एन.सी.आर.टी. की पुस्तकों से बनाए नोट्स एवं ऑनलाइन उपलब्ध मटेरियल का सहारा लिया। लिपी बताती हैं कि वे लगातार ऑनलाइन आयोजित होने वाले टेस्ट देती रहती थी और इससे उन्हें तैयारी में बहुत मदद मिली। वे महेश्वरी साड़ी पहनकर साक्षात्कार के लिए गई थी और साक्षात्कार के दौरान उनसे महेश्वरी साड़ी को लेकर भी प्रश्न पूछे गए थे। उनसे भोपाल के ग्रीन और क्लीन होने के बारे में भी प्रश्न पूछा गया।

लिपि का कहना है कि सफलता का एक ही मूलमंत्र है आत्मविश्वास, कड़ी मेहनत और  निरतंर अध्ययन।

स्वामी विवेकानंद कॅरियर मार्गदर्शन योजना परिवार की ओर से लिपी नगाइच को उनकी सफलता पर बहुत-बहुत बधाइयाँ एवं उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएँ ।

 

Facebook
Twitter
LinkedIn
Youtube